बंद करे

बरुआसागर

दिशा

बरुसागर का नाम बरुसागर ताल नामक एक बड़ी झील के नाम पर रखा। यह झील 260 साल पहले बनाई गई थी जब ओरछा के राजा उदित सिंह ने एक तटबंध तथा एक किला उनके द्वारा बनाया गया था। ग्रेनाइट से बने दो पुराने चंदेला मंदिरों के खंडहर झील के उत्तर-पूर्व में हैं। प्राचीन समय से इसको घुघुआ मठ कहा जाता है। निकटवर्ती गुप्तकालीन मंदिर है जिसे जराई-का-मठ कहा जाता है। यह भगवान शिव और देवी पार्वती को समर्पित है।

फोटो गैलरी

  • बरुआसागर
    बरुआसागर झाँसी
  • बरुआसागर बाँध
    बरुआसागर बाँध
  • बरुआसागर किला
    बरुआसागर का किला

कैसे पहुंचें:

बाय एयर

झाँसी के नजदीक ग्वालियर हवाईअड्डा है, जो झाँसी से १०३ किलोमीटर की दूरी पर है व दिल्ली का अंतर्राष्ट्रीय हवाईअड्डा झाँसी से लगभग ३२१ किलोमीटर की दूरी पर है |

ट्रेन द्वारा

दिल्ली - चेन्नई रेलमार्ग पर झाँसी रेलवे जंक्शन, रेल मार्ग का मुख्य स्टेशन है, जो देश के कुछ अन्य बड़े शहरों, जैसे, मुंबई, दिल्ली, चेन्नई, आगरा, भोपाल, ग्वालियर आदि को रेल मार्ग द्वारा झाँसी शहर से जोड़ता है |

सड़क के द्वारा

झाँसी शहर देश के कई बड़े शहरों को, जैसे, आगरा, दिल्ली, खजुराहो, कानपूर, लखनऊ, आदि सड़क मार्ग से जोड़ता है |