संस्कृति और विरासत

झांसी, जो कभी  बुंदेलखंड का एक अभिन्न हिस्सा था, बुंदेलाओं की कई परंपराओं और रीति-रिवाजों को वर्तमान में भी संजोये रखा है। हालांकि, मुगल और मराठा झांसी के लोगों की संस्कृति पर प्रभाव डालते हैं, क्योंकि दोनों राजवंशों ने शहर का इतिहास रचने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। स्थानीय नृत्य, जो स्थानीय लोगों के जीवन का एक अनिवार्य हिस्सा हैं, उनकी संस्कृति को सही ढंग से चित्रित करते हैं। बधाई नृत्य, लोकप्रिय रूप से शादियों में और कभी-कभी प्रसव में भी किया जाता है। अकाई नृत्य रूप, मार्शल आर्ट्स से प्रेरित है और नर्तकियां इसे खेलते हुए बांस की छड़ों का उपयोग करती हैं । नोरता  नृत्य, अच्छाई और बुराई के बीच लड़ाई दर्शाता है, जहां हमेशा अच्छाई की ही जीत होती है। राई नृत्य, एक थाली में सरसों के बीज के आंदोलन  या गतिविधि  से प्रेरित होकर  किया जाता है। ज्वारा नृत्य, एक अच्छी फसल का उत्पादन करने के लिए प्रेरणा-स्वरुप किया जाता है। दिवाली नृत्य, भगवान कृष्ण के प्रति भक्ति भाव व्यक्त करने के लिए, दिवाली से एक पखवाड़े पहले, ग्वालायों के रूप में वस्त्रों से सुसज्जित लड़कों द्वारा किया जाता है। झांसी परम्पराओं में  नृत्य और संगीत का काफी महत्व है, और स्थानीय लोग हर अवसर पर नृत्य में जोश और उत्साह के साथ बढ़चढ़कर हिस्सा लेते हैं।

हालांकि, यह स्पष्ट है कि भौगोलिक निकटता और सांस्कृतिक समानताओं के कारण, झांसी बुंदेली रीति-रिवाजों, परंपराओं और सांस्कृतिक मानदंडों के साथ स्वयं की एक अलग ही पहचान बनाती है। इन सभी कारणों से, झांसी को “गेटवे टू बुंदेलखंड” के रूप में भी जाना जाता है।